Monday, 24 June 2013

meri shero shayri

Dont forget to appreciate  if you like this:

" पैदा होता नहीं जूनून कभी हाशिये तले ...
खुद से खुद को कमज़र्फ एक आवाज़ लगनी पड़ती है || "

============XXX============
" बड़े लिबास में सजकर आये हजारों लोग ...
बस एक मेरे यार की ही सादगी रही || "

============XXX============
आज फिर वो निकला और पीछे हुजूम था ...
आज फिर नज़र का टीका लगाया नहीं उसने ...

============XXX============
इतनी पी ली उनकी बेरुखी से बेदिली होकर
कि अब तो रोते भी हैं तो पैमाने छलक जाते हैं...

============XXX============
ना दस्तूर बदला ना रिवाज़ बदले |
ना हम बदले न आप बदले ||
प्यार करते रहे हम बिना स्वार्थ के ...
ना झूठे वादे तेरे ना ही ख्वाब बदले ||

============XXX============
होंटों से बयां होते नहीं हालात दिल के
हम जैसा पारखी मिलता है मुश्किल से
कोई आके लूट लेगा तेरी आँखों से मोती
ठगों के बाज़ार पहुचोगे जब मेरी महफ़िल से

============XXX
============

 किसी को दुआओं ने जिंदा रखा |
किसी को दवाओं ने जिंदा रखा |
था जिनके परो में उड़ने का दम |
उन्हें इन् हवाओं ने जिंदा रखा ||

============XXX============
खुदगर्जी भी खुद करो
हमदर्दी भी खुद करो ...
जवाब माँगों हमसे हर बात का
और फिर मर्जी भी खुद करो ।।

============XXX============
न तुम होती न गम होता...
ये मैला पन्ना भी कुछ कम होता ।
और भी मौसम हैं ये मै जान पाता ...
गर ये बारिश का महीना कुछ कम होता ।।

============XXX============
मालूम नहीं था वो दिल है तेरा
जिसे कबसे हम पत्थर समझ रहे थे |
फिर उन् रकीबो ने आईना दिखा दिया
वर्ना तुमको हम खुद से बेहतर समझ रहे थे ||

============XXX============
 सजा प्यार की वो आज भी मुझे देता है साहिब
और मै खुद से पूछता हूँ मेरा गुनाह क्या है
वो खुद को समझ न सकी मुझे क्या समझेगी
सवाल फिर भी वही मेरा गुनाह क्या है 

============XXX============
न गिला उनसे , न गिला रब से ...
अपने दामन में ये आग खुद लगायी हमने |

============XXX============
वक़्त को हमारी कदर उस वक़्त हुई
जब वक़्त देखने को भी वक़्त न था
और वो आये हाथ थामने बड़े शौक से मगर
दिल धड़क तो रहा था पर इसमें अक्स न था 

============XXX============
शायद यही दस्तूर था
उनका जाना एक सच
और उनका आना मेरे मन का फितूर था 

 ============XXX============
 यहाँ दिल ज़ख्म की तासीर बना है
और वो सवाल भी पूछते हैं तो दिल तोड़कर

 ============XXX============
बदनाम हुए तो अच्छा है कुछ नाम तो हुआ ।
उनकी गली मे अपना भी कुछ मुकाम तो हुआ ।
माना कि हासिल नही हुआ कुछ भी ए दोस्त ।
पर आशिको मे अपना भी कुछ एहतराम तो हुआ । 

 ============XXX============
आज फिर वो निकला तो पीछे हुजूम था ।
अपने चाँद को सितारों से अलग पाया नही मैने ।।
जी मे था बादलों से ढक दूँ ये सारा आसमां ।
पर कुछ सोचकर ये परदा फलक पर गिराया नही मैने ।।

 ============XXX============
 कुछ बातें कुछ हसरत कुछ एहतराम बाकी है ।
पीने दो अभी हमें दोस्तों... ये जाम बाकी है ।
फरमाओ अपनी दास्तान और कुछ हमारी भी सुनो ।
ज़ज्बे-हयात की यहाँ अभी शाम बाकी है ।।

 ============XXX============
आज फिर देखा तुम्हें किसी और के साथ जानिब ...
जब तक हमारे थे , तुम कितने प्यारे थे ।

 ============XXX============
 जज्बात बढ़ चले हैं जज्बात से मिलने ...
ये पाँव चल पड़े हैं अब आप से मिलने ...
अपनी आँखों को जरा आहिस्ता बंद कर लो ।
मेरे ख्वाब उड़ पड़े हैं तेरे ख्वाब से मिलने ।।

  ============XXX============
आज फिर देखा उन्हें बहती हवा के साथ ...
आज फिर कोशिश की हमने पर कुछ न आया हाथ ...


  ============XXX============
न तुम होती न गम होता...
ये मैला पन्ना भी कुछ कम होता ।
और भी मौसम हैं ये मै जान पाता ...
गर ये बारिश का महीना कुछ कम होता ।।


  ============XXX============
विगत दिनों से कल्पजगत मे व्यापक कुछ विस्तार हुआ ।
घर से शहर , शहर से देश , देखो अब संसार हुआ ।।
कठिन नहीं था स्वयं को पाना दुनिया की अफरा-तफरी मे ।
हर चेहरे को जब अपना माना तब सपना साकार हुआ ।।

   ============XXX============
तू परिभाषा दे अथाह प्रेम की,
तो अविचल जीवन का सार मिले ।
सिमट गयी जो शिव जटाओं मे ,
उस गंगा को भी संसार मिले ।।
है नही गुजारिश सब पा लेने की ,
पर इतना तो अधिकार मिले ।
कि तुमको पलकों मे बंद करूँ ,
और सपनों मे तेरा प्यार मिले ।।


   ============XXX============
सुना था हवाये भी गुनगुनाती हैं ......
तुम गये जबसे इसकी फिदरत बदल गयी ।।


   ============XXX============
अगर वो जुर्म था साहिब , निगाहों मे जो शामिल था ।
बता फिर दिल मेरा सजा का हकदार क्यों है ??
हुआ सब खत्म हमारे बीच तनहा मन बचा केवल ।
आज भी इन किवाडो को तेरा इंतजार क्यों है ।।

   ============XXX============
तू क्या जाने मेरे इश्क का मतलब ...
चोट नाजुक है आँखो से न दिखाई देगी ।
कितना चाहा है तुझे बयां ये कैसे करे ...
दिल की आवाज है ये, तुमको न सुनाई देगी ।।

   ============XXX============
हुई सुबह तो हमें यकीन आया ...
ख्वाब-ए-ज़ंनत का आईना ज़रा कमजोर सा है ।।


   ============XXX============
सिखाया उसने हमें हालात से समझौता करना ।
कभी जज़बात कभी अपने आप से समझौता करना ।
बदल न पाया खुद को हमें बदलने वाला ...
बताया उसने हमें हर बात से समझौता करना ।।


   ============XXX============

---- kaviraj tarun 

1 comment:

  1. ARRRREEH!!!!!!!!!!! mamu!!! jaan loge kya?????

    ReplyDelete